विज्ञान अन्वेषण कक्ष

आगामी दिनों में ५५०० वर्ग मीटर का विज्ञान अन्वेषण कक्ष भारत के उभरते विज्ञान और प्रोद्योगिकी विरासत के क्षेत्र को चित्रित करेगा। इस नए भवन में निम्नलिखित विषयों पर व्याख्या प्रदान किया जाएगा:

जीवन का विकासक्रम
मानव विकासक्रम पर डिजिटल पैनोरमा3. भारत की विज्ञान और प्रोद्योगिकी विरासत
भारत की विज्ञान और
भारत में अत्याधुनिक विज्ञान और प्रोद्योगिकी

जीवन का विकास

जीवन के विकास पर आधारित कक्ष में पृथ्वी के गठन से लेकर स्तनधारी जीवों के आगमन तक जीवन की उत्पत्ति और उसके विकास को दर्शाया गया है। इस व्याख्या को ८ वर्गों में विभाजित किया गया है और प्रत्येक वर्ग विकासवादी परिवर्तन को दर्शाएगा। यह कक्ष मल्टीमीडिया शो, एनिमेटेड मॉडल और दृश्य-श्र्व्य (audio-visual) के माध्यम से प्रारम्भिक युग से शुरुआती रसायन, पहला सूक्ष्मजीव, बहु कोशिकीय मेरुदण्डहीन प्राणी, मछली, पूर्व एतिहासिक सरीसृप, डायनासोर, स्तनधारी, फूलदार पौधे और हिम योग के स्तनधारियों के विकास की कहानी को दर्शाएगा।

मानव विकासक्रम पर डिजिटल पैनोरमा

११ मीटर उच्च दृश्य और डिजिटल प्रस्तुति के साथ ३६०o विस्तृत दृश्य के माध्यम से मानव के विकास की कहानी को चित्रित किया जाएगा। पूरी कहानी का वर्णन उच्च रेज़ॉल्‌युशन्‌ दृश्यों और डिजिटली बनायी गयी प्रगतिशील प्रदर्शनी के माध्यम से किया जाएगा। इन दृश्यों को विशेष रुप से बेहद अनुभवी कलाकारों द्वारा बनाया जा रहा है। इन दृश्यों के साथ साथ मानव विकास पर कहानी के पूरक के रुप में अग्रभूमि में ३डी जीवन आकार नमूना रहेगा। इंटरैक्टिव कंप्यूटर कियोस्क और अन्य अत्याधुनिक संचार साधनों के माध्यम से पूरक जानकारी प्रदान की जाएगी।

भारत की विज्ञान और प्रोद्योगिकी विरासत

इस खंड में भारत की मजबूत विज्ञान और प्रोद्योगिकी विरासत, कृषि, वास्तुकला, चिकित्सा, धातु विज्ञान, खगोल विद्या, गणित, गन्ध द्रव्य, जहाज निर्माण, जल उर्जा इत्यादि को प्रदर्शित किया जाएगा।

अत्याधुनिक विज्ञान और प्रोद्योगिकी

अत्याधुनिक विज्ञान और प्रोद्योगिकी, अंतरिक्ष विज्ञान, परमाणु विज्ञान, चिकित्सा, कृषि, रोबोटिक्‌स, सूचना और संचार इत्यादि के क्षेत्र में नए ज्ञान का प्रदर्शन करेगा।